खेल जगतराष्ट्रीय

बंगाल के खिलाड़ियों की हौसला अफजाई के लिए आन लाइन संगोष्ठी (वेबिनार)

बंगाल के पूर्व कप्तान मनोज तिवारी ने कहा कि वर्तमान माहौल में ऐसे विमर्शों की बहुत ज्यादा जरूरत है.

चौथा अक्षर संवाददाता @chauthaakshar.com
नई दिल्ली
करोड़ों भारतीय क्रिकेट प्रेमी और बीसीसीआई उम्मीद पाले हुए हैं कि सोमवार को होने वाली आईसीसी बैठक में टी20 वल्र्ड कप के स्थगित होने का ऐलान कर दिया जाएगा. और इसी के साथ ही इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के आयोजन का रास्ता भी साफ हो जाएगा, लेकिन अभी तक बीसीसीआई ने घरेलू क्रिकेट को लेकर बिल्कुल भी मुंह नहीं खोला है और न ही कोई चिंता जाहिर की है!
बहरहाल, देश के हजारों प्रथण श्रेणी क्रिकेटर बहुत ही ज्यादा चिंता में हैं. साथ ही, वे खिलाड़ी भी, जो बेहतर करने के बाद टीम इंडिया से अंदर-बाहर होते रहे हैं. इसी चिंता और अवसाद को लेकर क्रिकेट एसोसिएशन आफ बंगाल (सीएबी) ने अपने खिलाड़ियों के मनोबल को बढ़ाने के लिए एक आन लाइन संगोष्ठी ( वेबिनार ) का आयोजन किया. इसमें अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी मनोज तिवारी, अरुण लाल सहित तमाम सीनियर खिलाड़ी, कोचों और अधिकारियों ने हिस्सा लिया.

इस आन लाइन संगोष्ठी ( वेबिनार ) में खिलाड़ियों ने अलग-अलग विचार रखे और पिछले साल की रणजी उपविजेता बंगाल के इन प्लेयरों ने बताया कि पिछले सत्र में क्या-क्या बातें उनके लिए कारगर रहीं और वर्तमान में कोविड-19 महामारी के दौर में किन क्षेत्रों में सुधार की जरूरत है. इसी पर बंगाल के पूर्व कप्तान मनोज तिवारी ने कहा कि वर्तमान माहौल में ऐसे विमर्शों की बहुत ज्यादा जरूरत है. उन्होंने कहा कि इस तरह के सत्रों का नियमित अंतराल पर आयोजन किया जाना चाहिए. साथ ही, सुझावों पर भी काम करना चाहिए. इससे खिलाड़ियों को बोलने, एक-दूसरे के संपर्क में बनने रहने और निराशा और अवसाद को कम करने में मदद मिलेगी. भारत के लिए 12 वनडे और तीन टी20 खेलने वाले तिवारी ने कहा कि इस तरह के आयोजन खिलाड़ियों को एक-दूसरे से बात करने का मौका देते हैं. हमने खासतौर पर मानसिक स्थिति के बारे में बात की. साथ ही, मैंने उनसे प्रत्येक दिन खुद को बेहतर इंसान बनाने के बारे में बात की क्योंकि इससे सकारात्मकता आती है.

Related Articles

Leave a Reply

Close