स्वास्थ्य

जन प्रतिनिधियों और अधिकारियों की लापरवाही से केमिकल युक्त पानी सड़को पर बहने से किसी बड़े अनदेशे का खतरा

एस पी सी ए के अनुसार हर महीने अनेको गाय प्लास्टीक खाकर मर रही है

नीतू विश्वकर्मा / दादरा नगर हवेली
यूं तो दादरा नगर हवेली ग्रीन जेान में आता है लेकिन यहां लगभग छोटे बड़े इंडस्ट्रीज लगभग साढ़े तीन हजार के लगभग में कार्य कर रही है। जहाँ एक तरफ स्वास्थ्य को मद्दे नजर रखते हुए दानह में कैमिकल बनाने से संबंधित कंपनियों को इंडस्ट्रीज लगाने का परमिशन नहीं है वहीं पाल्यूशन बिभाग की सख्त गाइडलाइंस को नजर में रखते हुए अधिकतर धागा प्लांट को लगाने का परमिशन दिया जाता है। उसमें वन विभाग के भी अनेक नियमों जैसे अधिक से अधिक पेड़ लगाना, पाल्यूशन बिभाग का केमिकल युक्त पानी को फिल्टर करके फिर इस्तेमाल करना, फायर के लिए गाड़ी चारो तरफ घूमने तक जगह छोड़ना, जैसे अनेक नियमों को ध्यान में रख कर प्लांट चलाने का परमिशन दिया गया है।

परंतु दादरा गांव में कुछ गांव के चुने हुए प्रतिनिधियों और अधिकारियों की लापरवाही से नवनीत शाह इंडस्ट्रीयल एरिया में स्थित भूमि यान प्राइवेट लिमिटेड कंपनी, धरल्ले से गटर में, सड़को पर केमिकल युक्त पानी छोड़ रहा है साथ ही कंपनी से निकलने वाले कचरा,प्लास्टिक, शराब की बोतल जैसे आपत्ति जनक वस्तु उसी गटर में भर कर डाला जा रहा है। केमिकल युक्त पानी सड़को पर भी बह रहा है जिससे वहां घूमते जानवरों को इस पानी पी कर मोत के मुँह में जाना तय है। इतना ही नहीं कंपनी में फायर के लिए छोड़े जाने वाले जगहों पर सेड बना कर उसमें रो मटेरियल और पेकिंग मटेरियल रखा गया है। जिससे कभी आग लगने की स्थिति में फायर की गाड़ी भी नहीं आ सकती है। भूमि यार्न के बगल में ही भारत पेट्रालियम जैसे ज्वलनशील पदार्थ बनाने बाली कंपनी स्थित है। उसने भी जगहों को घेर कर रो मटेरियल रखा है और सेड में रो मटेरियल रखा है।

कंपनी के पास ही खड़ा एक व्यक्ति ने जानकारी दिया है कि यह केमिकल युक्त पानी भूमि यार्न कंपनी से छोड़ा जा रहा है पानी गटर में जाते ही दूधिया रंग बन जाता है उस व्यक्ति ने यह भी जानकारी दिया कि ऐसे ही हमेसा केमिकल का पानी गटर और सड़को पर बहता रहता है इसे जब गाय या अन्य जानवर पानी पीयेगी तो तुरंत ही मर जाएगी। कई बार गाय पानी पीने के बाद झूमती हुई दिखाई दी है। इतना ही नही प्लास्टिक का ढेर भी उस कंपनी द्वारा गटर में फेंका हुआ रहता है जिसे गाय खाती है।एस पी सी ए के अनुसार हर महीने अनेको गाय इस प्लास्टीक खाकर मर रही है। कंपनी के इस प्रकार की लापरवाही से आस पास कंपनी वाले काफी परेशान हैं ।

उसी रास्ते में अनेक कंपनी को ऐसा ही लापरवाही पूर्वक सड़कों पर कचरा फेकते हुए देखा गया है। एक कंपनी आर एम निटर्स ने तो गटर लाईन में भी कचरा फेक कर पूरा बंद कर दिया है। जिसका जीता जागता तस्वीर दिया गया है। कचरे में थर्मोकाल, प्लास्टीक बेग, पी पी बेग, पेकिंग मटीरियल जैसे वस्तु फेका हुआ दिखाई दिया । इस प्रकार से कंपनी के द्वारा की जा रही लापरवाही का इस कोरोना काल में सही होगा ?

Related Articles

Leave a Reply

Close