दृष्टिकोणपहला पन्नाराष्ट्रीय

आखिर कौन है इस सिस्टम का मुखिया?

गोदी मीडिया के ईमान फरोश पत्रकारों.... अगर दम है तो इस नीच नराधम सिस्टम का नाम लेकर दिखाओ और इस हत्यारे सिस्टम से कोरोना काल मे हुई हर मौत का हिसाब माँगों।

देश ऑक्सीजन की कमी से बेहाल है लेकिन दरबारी कह रहे हैं कि सिस्टम जान ले रहा है। आखिर कौन है इस सिस्टम का मुखिया? क्या डोनाल्ड ट्रम्प या इमरान खान इस सिस्टम के जिम्मेदार हैं? कोरोना काल की शुरुआत में एयरपोर्ट पर स्क्रीनिंग करने की जगह नमस्ते ट्रम्प आयोजित करने का सिस्टम किसका था? नंगे भूखे लोगों को मीलों तक पैदल चलाने का सिस्टम किसका था? खाये अघाये लोगों के दिलों में नफरत का जहर घोलने वाला सिस्टम किसका था? देश में मूर्खों की गणना करने के लिए ताली थाली बजबाने का सिस्टम किसका था? देश की अर्थव्यवस्था चौपट करके मोर तोता खिलाने का सिस्टम किसका था? देश भर में किल्लत होने के बाद भी ऑक्सीजन और वैक्सीन विदेशों को निर्यात करने का सिस्टम किसका था? एक साल का समय मिलने के बाद भी दवाई और ऑक्सीजन के मामले में आत्मनिर्भर न बन पाने का सिस्टम किसका था? दूसरी लहर की चेतावनी के बाद भी कुम्भ के मेले में लाखों की भीड़ जुटाने का सिस्टम किसका था? वो कौन सिस्टम है जो कुछ दिन पहले बंगाल में छिछोरे शोहदों की तरह दीदी ओ दीदी चिल्ला रहा था?
गोदी मीडिया के ईमान फरोश पत्रकारों।
अगर दम है तो इस नीच नराधम सिस्टम का नाम लेकर दिखाओ और इस हत्यारे सिस्टम से कोरोना काल मे हुई हर मौत का हिसाब माँगों।

मशहूर कार्टूनिस्ट डेविड रोव ने ऑस्ट्रेलियाई अखबार फाइनेंशियल रिव्यू ने अपने प्रधान जी को इस तरह से चित्रित किया है। क्या रविशंकर प्रसाद ट्विटर से इसे भी हटाने को कहेंगे?इतने बड़े सम्राट को इस तरह पेश किए जाने की क्या अंतरराष्ट्रीय निंदा होनी चाहिए या सम्राट की निदा की जाय। रविशंकर जी राष्ट्र की प्रतिष्ठा बचाइए।

Related Articles

Leave a Reply

Close