दिल्ली विश्वविद्दालयपहला पन्नाराष्ट्रीय राजधानी दिल्लीशिक्षा

डीटीए और सीवाईएसएस ने डीयू/ जेएनयू में प्रवेश संबंधी शिकायत कमेटी गठित की

प्रवेश संबंधी शिकायत कमेटी में होंगे डीयू के प्रोफेसर और व सीवाईएसएस के छात्र, छात्रों की प्रवेश संबंधी शिकायतों का निपटारा आन लाइन होगा

चौथा अक्षर संवाददाता
नई दिल्ली

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय ( जेएनयू ) और दिल्ली विश्वविद्यालय से सम्बद्ध कालेजों में शैक्षिक सत्र-2021-22 में छात्रों के प्रवेश संबंधी शिकायतों के समाधान के लिए आम आदमी पार्टी के शिक्षक संगठन दिल्ली टीचर्स एसोसिएशन ( डीटीए ) व आप के छात्र संगठन सीवाईएसएस ने डीयू / जेएनयू में दाखिला प्रक्रिया को लेकर होने वाली किसी भी तरह की शिकायतों के समाधान के लिए एक कमेटी गठित की है । डीयू में 2 अगस्त से शुरू हो रही अंडरग्रेजुएट में एडमिशन की प्रक्रिया को मद्देनजर कमेटी का गठन किया गया है । कमेटी में दिल्ली विश्वविद्यालय के वरिष्ठ प्रोफेसर , कर्मचारी और छात्रों को रखा गया है। कमेटी कोरोना के चलते छात्रों को होने वाली किसी भी तरह की समस्या का समाधान आफ लाइन नहीं किया जाएगा बल्कि आन लाइन ही किया जाएगा। आप के शिक्षक संगठन दिल्ली टीचर्स एसोसिएशन ( डीटीए ) के अध्यक्ष डा. हंसराज सुमन ने बताया है कि छात्रों को दाखिला संबंधी होने वाली समस्याओं को इन नम्बरों पर वट्सएप के माध्यम से शिकायतें भेज सकते हैं –

श्री चंद्रमणि देव ,अध्यक्ष सीवाईएसएस दिल्ली स्टेट              –        9718220101 ,
श्री गगन महायान ,सोशल मीडिया इंचार्ज                           –        9953550251
श्री निखिल कुमार ,अध्यक्ष जेएनयू यूनिट                            –        9560985240
श्री हैदर मेंहदी ,सचिव जेएनयू                                        –         7503628353 ,
श्री नितिन यादव ,अध्यक्ष ,दिल्ली यूनिवर्सिटी                      –         9990172010 ,
श्री कुलदीप कुमार ,महासचिव ,दिल्ली यूनिवर्सिटी                –          8766363520
के अलावा डा. हंसराज सुमन ,अध्यक्ष डीटीए                      –         9717114595 ,
प्रोफेसर नरेंद्र पाण्डेय ,महासचिव ,डीटीए                            –          9810119138
डा. सुनील कुमार ,मेंबर एकेडेमिक काउंसिल                      –           9958583305
आदि एडमिशन कमेटी में कार्य करेंगे । छात्र hansrajsumandu@gmail.com पर ईमेल कर सकते हैं। इसके अतिरिक्त इन नम्बरों पर वट्सएप कर अपनी समस्या बता सकते हैं–9718220101 ,9953550251 ,9560985240 आदि पर भी शिकायतें भेज सकते हैं।

डीटीए अध्यक्ष डा. हंसराज सुमन ने बताया है कि प्रवेश संबंधी शिकायत कमेटी में कालेज/ विश्वविद्यालय से जुड़े शिक्षकों/कर्मचारियों और छात्रों को रखा गया है जिन्हें वर्षो से प्रवेश करने का अनुभव है। कमेटी में शिक्षकों की ओर से- डा. हंसराज सुमन ,डा. नरेंद्र कुमार पांडेय ,डा.सुनील कुमार , डा. मनोज कुमार सिंह ,इसी तरह कर्मचारियों में–श्री केदारनाथ , श्री राजकुमार यादव को रखा गया है वहीं छात्रों में श्री चंद्रमणि देव ,श्री गगन महायान ,श्री निखिल कुमार ,श्री हैदर मेहंदी ,श्री नितिन यादव श्री कुलदीप कुमार आदि इस कमेटी के सदस्य होंगे जो कालेजों में होने वाली छात्रों की प्रवेश संबंधी समस्याओं के समाधान करने की कोशिश करेगी।

डा. सुमन ने छात्रों और उनके अभिभावकों से अपील की है कि वे अपने बच्चों के एडमिशन के लिए 2 अगस्त से अंडरग्रेजुएट में प्रवेश के लिए पंजीकरण की प्रक्रिया शुरू हो रही है जो 31 अगस्त तक चलेगी ,पीजी कोर्सेज व एमफिल/ पीएचडी में पंजीकरण 26 जुलाई से शुरू हो चुके है । उनका कहना है कि छात्र घर बैठे ही दाखिला संबंधी अपनी औपचारिकताएं पूरी करे। घर में सुरक्षित रहकर अपना प्रवेश संबंधी फार्म भरे, फार्म भरते समय किसी तरह की कोई दिक्क़ते आती है तो वे दिए गए नम्बरों पर या वट्सएप के माध्यम से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं ,मगर कालेज व विश्वविद्यालय में ना आएं क्योंकि कोरोना के बढ़ते प्रभाव के कारण ही ऐसा निर्णय लिया गया है। उन्होंने बताया कि कोरोना की तीसरी लहर से आपको बचना है । उन्होंने यह भी बताया है कि दाखिले के दौरान किसी सर्टिफिकेट के ना होने, जाति प्रमाण पत्र या किसी तरह की त्रुटि होने पर छात्रों के सामने दिक्क़ते आती है तो पहले कालेज/विश्वविद्यालय से संपर्क करें।

कमेटी के सदस्य व सीवाईएसएस दिल्ली स्टेट के अध्यक्ष श्री चंद्रमणि देव ने बताया है कि दिल्ली विश्वविद्यालय में स्नातक मेरिट आधारित पाठ्यक्रमों के लिए प्रवेश की प्रक्रिया सोमवार 2 अगस्त से शुरू हो रही है। प्रवेश संबंधी समस्याओं के समाधान के लिए उनके संगठन के छात्र जल्द ही आन लाइन हेल्प डेस्क का गठन कर रहे हैं । इस हेल्पलाइन डेस्क में डीयू से सम्बद्ध शिक्षकों/कर्मचारियों को भी रखा जाएगा। उनका कहना है कि डीयू में प्रवेश प्रक्रिया से पहले से जुड़े लोगों को जोड़ा जाएगा जो छात्रों को सही जानकारी व उनकी समस्या का समाधान कर सके। उन्होंने यह भी बताया है कि छात्रों को प्रवेश संबंधी होने वाली दिक्कतों को दूर करने के लिए वर्कशाप आयोजित की जाएगी जिसमें सब्जेक्ट एक्सपर्ट व कॅरियर काउंसलर को बुलाकर छात्रों का ज्ञानवर्धन करेंगे ।

डा. सुमन ने बताया है कि वे पिछले तीन दशक से दिल्ली विश्वविद्यालय की केंद्रीय प्रवेश समिति ,शिकायत समिति, एससी, एसटी एडमिशन कमेटी ,एससी, एसटी सैल में एडमिशन, ग्रीवेंस कमेटी आदि में वर्षो तक रहे हैं ।उन्होंने बताया है कि सबसे ज्यादा शिकायतें एससी, एसटी, ओबीसी कोटे के जाति प्रमाण पत्रों की आती है। इसके अलावा सामान्य वर्गो के बराबर मार्क्स होने पर उन्हें कोटे में एडमिशन देना, ओबीसी सर्टिफिकेट का रिन्यू ना होना या किसी अन्य राज्यों के जाति प्रमाण पत्रों को लेकर समस्या आती है। लेकिन इन सभी समस्याओं का समाधान उन्होंने समय पर किया है। उन्होंने बताया है कि पिछले डेढ़ साल से कोरोना के कारण ओबीसी कोटे के जाति प्रमाण पत्र नहीं बने है ,इस समस्या के समाधान के लिए डीटीए व सीवाईएसएस सोमवार को कार्यवाहक वाइस चांसलर से मिल रहे है ।

प्रोफेसर सुमन ने यह भी बताया है कि अनुसूचित जाति/जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग, पीडब्ल्यूडी व ईडब्ल्यूएस आवेदकों की शिकायतों पर ध्यान देने के लिए प्रत्येक कालेज में एक अलग शिकायत समिति गठित की गई है जिसमें कालेज के तीन सदस्यों को शामिल किया जाता है और एक संयोजक के रूप में कार्य करता है। हालांकि इसके अलावा इनकी समस्याओं के लिए संपर्क अधिकारी ( लायजन आफिसर ) होता है। इसके अतिरिक्त कालेज अपनी वेबसाइट पर शिकायत समिति के सदस्यों के नाम, संपर्क नम्बर और ईमेल पता आदि प्रदर्शित करेंगे ताकि छात्रों को किसी तरह की प्रवेश संबंधी दिक्क़ते ना हो। उनका कहना है कि किसी भी समस्या के लिए पहले छात्रों को उक्त कालेज संपर्क करना चाहिए जब कालेज स्तर पर उसका समाधान नहीं होता है तो आवेदक को केंद्रीय प्रवेश शिकायत समिति से संपर्क करना चाहिए।

जेएनयू यूनिट के अध्यक्ष श्री निखिल कुमार ने बताया है कि वे जेएनयू में जल्द ही एडमिशन संबंधी कॅरियर काउंसलिंग और छात्रों को रोजगार से जोड़ने के लिए किन विषयों का अध्ययन करना चाहिए एक वर्कशाप की जाएगी।उन्होंने बताया है कि वे अपने यहाँ छात्रों को एडमिशन से पूर्व छात्रों को फ्री कोचिंग क्लास के माध्यम से सलेब्स पूरा कराते हैं और जो इंट्रेंस एग्जाम में आता है उसकी सम्पूर्ण जानकारी छात्रों को दी जाती है ताकि वे इंट्रेंस एग्जाम किलियर कर सकें।

Related Articles

Close